Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today

Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today

Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today

Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today

  • जम्मू कश्मीर में लागु होगा राष्ट्रपति सेशन आज आधी रात से
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंडद ने राष्ट्रपति सेशन के घोषणा पत्र पर किये हस्ताक्षर।
  • राज्य में लगेगा अब केन्द्रिय सेशन।

एक ऑफिसियल आर्डर के अनुसार राज्य में राज्यपाल के 6 महीने के शासन के समाप्ति के बाद अब राष्ट्रपति का शासन होगा लागु. 19 दिसंबर के मध्यरात्रि से केंद्र का शासन राज्य में प्रस्तावित किया जायेगा।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्य में केंद्रीय शासन को लागु करने हेतु मार्ग प्रशस्त करने के लिए घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये. राज्य जम्मू एवं कश्मीर में जून में राजनीतिक संकट को देखा गया जो की भारतीय जनता पार्टी के PDP सरकार का समर्थन वापस ले लेती है, जिसका मेहबूबा मुफ़्ती नेतृत्व करती हैं.

प्रधान मंत्री की अध्यक्षता में चल रही केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यह फैसल 17 दिसंबर को लिया जब राज्य के राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लागु करने की रिपोर्ट भेजी थी.

आज मध्यरात्रि में जम्मू कश्मीर में केंद्रीय शासन की घोषणा के बाद राज्य की सभी विधान मंडल शक्तियां संसद के अधीन होंगी या फिर उसके द्वारा सिमित होंगी.

JAMMU KASHMIR WITH ANOTHER CONSTITUTION

Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today
Jammu and Kashmir to come under President’s rule from midnight today

चूँकि, जम्मू कश्मीर का एक अलग ही संविधाम है इसके द्वारा, अनुच्छेद ने यह प्रावधान दिया है की केंद्रीय या राष्ट्रपति शासन के लिए राज्यपाल की 6 महीने का शासन अनिवार्य है जिसके अन्तर्गत राज्य कार्यकारी शक्तियां राज्यपाल के पद में निहित है.

तारीख 21 नवंबर के बाद राज्यपाल ने अपनी शक्तियों के अंतर्गत राज्य में PDP के बाद कुल 87 विधानसभाओं को भंग कर दिया था जिनका समर्थन कांग्रेस तथा उसके कट्टर प्रत्द्वंदिओं ने किया था.

इसके साथ ही अन्य राजनैतिक घंटनाओं को देखा जाये तो सज्जाद लोने के नेतृत्व में दो सदस्यीय पीपुल्स कांफ्रेंस ने भारतीय जनता पार्टी के 25 सदस्यों एवं अन्य 18 अज्ञात के साथ सरकार बनाने का दवा भी

राजयपाल सत्य पाल ने स्थिरता की कमी का हवाला देते हुए असेंबली को भंग कर दिया.

इसी तरह के अन्य राष्ट्रीय अंतराष्ट्रीय एवं तकनिकी विशेष ख़बरों के लिए हमारे साथ जुड़े रहे

धन्यवाद आप हम अपने रेविएवस के बारे में हमारी comment सेक्शन में बता सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *